This blog contains a collection of renowned and young authors from around the world poems in the languages in which they were originally written. Each file includes author’s photo or portrait and brief biography. We offer news and announcements of interest to professional and amateur writers (writing competitions, poetry press, etc) too.


Este blog recoge una selección de poemas de reputados autores y jóvenes promesas de todo el mundo en las lenguas en las que fueron escritos originalmente. Se incluye en cada ficha una breve reseña biográfica del autor y fotos o cuadros de éste. Se complementa el grueso del material con datos de interés para escritores profesionales o aficionados a la literatura (como información sobre certámenes literarios, editoriales dedicadas a la poesía, etc).

Puru Malav ( पुरू मालव )

मैं कुछ नहीं कहता

मै रो नहीं सकता
क्योंकि मेरे आँसुओं की कोई कीमत नहीं है

मैं अपना दुःख किसी को बता नहीं सकता
चूँकि यह लोगों को मामूली लगता है

मैं शिकायत नहीं कर सकता
चूँकि मुझ पर अहसान लदे हैं

मैं अपने ज़ज़्बात बयां नहीं कर सकता
चूँकि लोग इन्हें तर्क देकर अमान्य कर देते हैं

मैं अपनी इच्छा से कोई कार्य नहीं कर सकता
चूँकि उनकी इच्छा सर्वोपरि है

मैं अपनी तुच्छ ख़ुशियां प्रकट नहीं कर सकता
चूँकि जानने के पूर्व ही उनके चहरे पे खिंच आती हैं
अज़ीब सी लक़ीरें

मैं खुल कर अपनी बात कह नहीं सकता
चूँकि उन्हें फ़िज़ूल बातें सुनने का वक़्त नहीं हैं

मुझे उनके इशारे समझ कर
काम करना पड़ता है
न चाहते हुए भी मुझे
हँसना पड़ता है उनकी ख़ातिर
उनके हर अच्छे-बुरे काम की
तारीफ़ करनी पड़ती है
उनकी हर राय को समर्थन देना होता है
उनके दिखावटी ग़म में
आँसू बहाने पड़ते हैं
उनकी उदासी में उदास होना पड़ता है
उनके ग़ुस्से को दयनीय बन कर
सहना पड़ता है

मेरा अपना कोई वज़ूद नहीं
मेरी कोई इच्छा नहीं
मेरा कोई सपना नहीं

मैं ख़ामोश रहता हूँ
बिल्कुल ख़ामोश
कुछ नहीं कहता
सब कुछ सुनता हूँ


Puru Malav ( पुरू मालव ) ( पुरुषोत्तम प्रसाद ढ़ोडरिया ). Docente y poeta.

No hay comentarios:

Publicar un comentario en la entrada

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Mi lista de blogs


"Poetic Souls " es un blog sin ánimo de lucro cuyo único fin consiste en rendir justo homenaje
a los poetas del mundo. Los derechos de los textos que aquí aparecen pertenecen a cada autor.

Las imágenes han sido obtenidas de la red y son de dominio público. No obstante si alguien tiene derecho reservado sobre alguna de ellas y se siente
perjudicado por su publicación, por favor, no dude en comunicárnoslo.